Rainy Essay In Hindi

वर्षा ऋतु पर निबंध

Rainy Season Essay in Hindi

वर्षा  ऋतु सभी ऋतुओं की रानी है . गर्मी में प्रचंड कष्ट भोगने के बाद यह ऋतु आती है . वर्षा का आगमन सबके लिए सुखदायी होता है . यह  ऋतु वर्षा करने वाली होती है .इसीलिए इसका नाम वर्षा  ऋतु है . इस  ऋतु का आगमन जून महीने से आरम्भ होता है और इसका कार्य सितम्बर महीने तक चलता है .

वर्णन :

वर्षा  ऋतु के आगमन के साथ ही साथ आकाश बादलों से ढक जाता है . कभी - कभी तो सम्पूर्ण दिन सूर्य भगवान् का दर्शन ही नहीं हो पाता . इस समय बादल जलसे पूर्ण होते है . कभी - कभी तो बहुत जोर की गर्जन से प्रारंभ होती है . वर्षा काल में भारी वर्षा के कारण नदी नाले भर जाते हैं . हर जगह हरियाली ही हरियाली दिखाई देती है . एक कहावत भी है - सावन के अंधे को सब कुछ हरा ही हरा दिखाई देता है . बादल केवल पानी ही नहीं बरसाते बल्कि कभी - कभी ओले की भी वर्षा करते हैं . वर्षा से नदियों में बाढ़ आ जाती है . इस समय मोर नाचते तथा मेढ़क टर -टर की आवाज करते हैं .



लाभ :

वर्षा  ऋतु में उल्लास बढ़ जाता है . कृषक प्रसन्न होकर अपने खेतों में काम करने लग जाते हैं . हमारे देश की कृषि पूर्ण -रूपेण वर्षा पर ही निर्भर करती है . इस ऋतू में धान की खेती प्रमुख रूप से की जाती है . वर्षा  ऋतु के आगमन के साथ - ही - साथ कवियों की लेखनी प्रकृति की सुन्दर रचनाएँ करने लगती हैं .

हानि :

वर्षा से केवल उपकार ही नहीं होता , हानि भी होती है . भयंकर वर्षा होने पर गाँवों का रास्ता घात कीचड़ से भर जाता है . मकान धराशायी हो जाते हैं . शहरों में सड़कें जलमग्न हो जाती हैं .

उपसंहार :

ऐसे तो वर्षा  ऋतु लोगों के लिए काफी कष्टदायी होती है ,परन्तु इसे वरदान ही मानना चाहिए . वर्षा के बिना देश में हाहाकार मच जाता है . वर्षा के अभाव में न तो अन्न ही मिल सकता है न वस्त्र ही . यह  ऋतु बहुत ही सुहावनी तथा जीवन दायिनी होती है .

वर्षा ऋतु


ग्रीष्म ऋतु के पश्चात् 'वर्षा ऋतु' आती है। जुलाई और अगस्त के मास में वर्षा का जोर रहता है।

वर्षा ऋतु में आकाश पर काली घटायें हर समय छाई रहती हैं। नदी, नाले और तालाब सब पानी से भर जाते हैं। ऐसा प्रतीत होता है, मानो सूखी भूमि के भाग्य उदय हुए हों। भूमि हरे वस्त्र पहन लेती है।

इस मौसम में जंगल में मंगल हो जाता है। पक्षी प्रसन्न हो आकाश पर मंडराते हैं। कोकिला राग अलापती है। मेंढक टर्राते हैं। साँप, बिच्छु, कीड़े-मकोड़े भी बड़ी संख्या में बाहर निकल आते हैं। मक्खियाँ डंक मारती हैं। मच्छर सताते हैं। मलेरिया ज्वर एवं अन्य अनेक बीमारियाँ फ़ैल जाती हैं। 

0 thoughts on “Rainy Essay In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *